About Us

भारतीय संस्कृति, संस्कृत एंव सभ्यता के प्रचार-प्रसार तथा सर्व जनकल्याण हेतू समपर्ण भगवतानुरागी सज्जनों के अथक प्रयास से माघ संक्रान्ति सम्वत 2067 शुक्ल पक्ष नौमी तिथि शुक्रवार ईशा सन 14 जनवरी 2011 को हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में ‘ श्रीसारंग पाणी देव संस्कृति सेवा संस्थान ’ नामक संस्था का गठन किया गया |

इस संस्था का मूल उदेश्य सनातनीय परम्पराओं तथा वैदिक संस्कृति को जन-जन तक पहुंचना तथा समाज में समरसता लाना है | आज हमारा समाज पश्चिमी संस्कृति में इतना डूब चुका है कि वह अपनी सभ्यता, रीती–रिवाज ही भूल गया है | ये संस्था भरतीय सनातनीय सांस्कृतिक धरोहर के संरक्षण में अग्रणी भूमिका निभाने के लिए कृत संकल्प है |

22 अक्तूबर 2010 से 22 दिसम्बर 2010 तक लगभग कई बैठकें हुई , जिसमें कई विद्वानों, बुद्धि-जीवियों ने सनातन धर्म में घटती लोकप्रियता खास कर नव-युवतियों तथा नव-जवानो के बारे में बहुत गहन विचार विमर्श किया | गुरुकुल परम्परा आदि के माध्यम से कैसे पुन: अपनी संस्कृत संस्कृति सनातनीय परम्परा स्थापित हो | अन्तत: 14 जनवरी 2011 को सर्व सम्मति से ‘श्रीसारंग पाणी देव संस्कृति सेवा संस्थान ’ नामक संस्था का गठन किया गया |

Contact No. +91-9459274710 / +91 9417110262

Follow Us On

Designed and Developed by